Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana 2023- PMMSY Apply Online, Eligibility, Important Details

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023: 60 और 40 प्रतिशत अनुदान, PMMSY ऑनलाइन आवेदन करें, पात्रता, महत्वपूर्ण विवरण

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023:   केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा गया है। हम सभी जानते हैं कि देश की अर्थव्यवस्था में कृषि का महत्वपूर्ण स्थान है। इसके लिए सरकार द्वारा किसानों की जरूरत के हिसाब से तरह-तरह की योजनाएं चलाई जा रही हैं। मौजूदा समय में सरकार मछली पालन यानी एक्वाकल्चर किसानों को बढ़ावा दे रही है। प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना  भारत में बढ़ावा देने के उद्देश्य से सरकार द्वारा शुरू की गई है।

केंद्र की मोदी सरकार ने इस योजना को ‘नीली क्रांति’ का नाम दिया है। इस योजना के तहत मत्स्यपालन करने वाले किसानों को बैंक ऋण, बीमा आदि कई सुविधाएं प्रदान की जाएंगी। अगर आप भी इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो इस पोस्ट में  प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना   (  PMMSY  )  2023 के ऑनलाइन आवेदन फॉर्म के  बारे में बताया जा रहा है।

What is Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana?

प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना (PMMSY)  भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही एक योजना है, जिसके माध्यम से मत्स्य व्यवसाय से जुड़े लोगों को अपनी आय में वृद्धि करने के साथ-साथ अपने जीवन स्तर में सुधार करना है। दरअसल, सरकार इस योजना के तहत एक्वाकल्चर को बढ़ावा देना चाहती है, ताकि जलीय क्षेत्रों में कारोबार को काफी हद तक बढ़ाया जा सके.

PMMSY योजना के तहत  मत्स्य पालन के क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को सरकार द्वारा 3 लाख रुपये का ऋण प्रदान किया जा रहा है। प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना  के लिए बजट में 20,050 करोड़ रुपये का कोष बनाया गया है इस राशि का उपयोग बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए किया जाएगा, जिससे इस क्षेत्र में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने   अपने आर्थिक पैकेज में पीएम मत्स्य संपदा योजना 2023 की शुरुआत की। मत्स्य पालन को बढ़ावा देने और रोजगार उपलब्ध कराने के लिए मत्स्य संपदा योजना को लागू करने की घोषणा की गई है। सरकार इस योजना के तहत सभी मछुआरों या मछली किसान समुदायों को लाभान्वित करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। इस लेख के माध्यम से हम आपको मत्स्य संपदा योजना के बारे में जानकारी देंगे। आप इस योजना के लिए कैसे पात्र हैं और आप इस योजना के लिए कैसे आवेदन कर सकते हैं। हितग्राहियों को क्या लाभ मिलेगा?

  • Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana was announced in the budget .
  • सरकार इस योजना को 20,000 करोड़ रुपये से शुरू करेगी।
  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आत्मनिर्भर भारत अभियान आर्थिक पैकेज की तीसरी किस्त के तहत यह घोषणा की।
  • इस योजना से 55 लाख लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है।
  • इसमें मछुआरा समुदाय के लोगों के लिए ऋण सुविधा आसान की जाएगी।
  • अन्य लोगों को जलीय उत्पादों से संबंधित व्यवसाय करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए जलीय क्षेत्रों में भी योजना शुरू की गई है।
  • इसके तहत वैल्यू चेन को मजबूत करने से जुड़ी अहम कमियों को दूर किया जाएगा।
  • मछली उत्पादन भी बढ़ेगा।
  • इनमें बुनियादी ढांचा, आधुनिकीकरण, पता लगाने की क्षमता, उत्पादन, उत्पादकता, उपज प्रबंधन और गुणवत्ता नियंत्रण शामिल होंगे।
  • प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023 के तहत  , सरकार किसान कल्याण कार्यक्रमों और दुर्घटना बीमा के लिए विस्तारित कवरेज के साथ सभी मछुआरों या मछली किसानों को सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ देना चाहती है।
  • इस योजना में सरकार समुद्री खरपतवार मोती और सजावटी मछली की खेती की सुविधा प्रदान करेगी।
  • इससे मछुआरों को व्यापार में बेहतर लाभ प्राप्त होगा।

पीएम मत्स्य संपदा योजना 2023 का संक्षिप्त विवरण 

योजनाप्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023
द्वारा शुरू किया गयाप्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा
आरंभ तिथि10 सितंबर 2020
योजना का उद्देश्यमछली उत्पादन और निर्यात में वृद्धि करना
योजना के लाभार्थीमछली किसान
योजना के लाभबागवानी की वस्तुओं को भारी कचरे में जाने से रोकना
आवेदन का प्रकारऑनलाइन
सरकारी वेबसाइटwww.pmmsy.dof.gov.in

प्रधानमंत्री मत्स्य संसाधन योजना 2023 | (पीएमएमएसवाई) पीएम मत्स्य संपदा, ऑनलाइन आवेदन पत्र

केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2022 तक  किसानों  की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा  गया है। हम सभी जानते हैं कि   देश की अर्थव्यवस्था में कृषि का महत्वपूर्ण योगदान है। इसके लिए सरकार द्वारा किसानों की जरूरत के हिसाब से तरह-तरह की योजनाएं चलाई जा रही हैं। वर्तमान समय में मछली पालन यानि एक्वाकल्चर करने वाले किसानों को सरकार द्वारा बढ़ावा दिया जा रहा है।  भारत में  मत्स्य पालन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से सरकार द्वारा प्रधानमंत्री  मत्स्य संपदा योजना की शुरुआत की गई है 

 केंद्र की मोदी सरकार ने इस योजना को  ‘नीली क्रांति’ नाम दिया है। इस योजना के तहत मत्स्य पालन करने वाले किसानों को कई प्रकार की सुविधाएं जैसे बैंक ऋण, बीमा आदि प्रदान की जाएगी। अगर आप भी इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो इस पोस्ट में  प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना (पीएमएमएसवाई) पीएम मत्स्य संपदा ऑनलाइन आवेदन फॉर्म  के बारे में बताया जा रहा है।

What are the objectives of Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana 2023?

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना  वर्तमान में मत्स्य पालन के क्षेत्र में केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही सबसे बड़ी योजना है। इस योजना के लिए 20000 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया गया है, जो स्पष्ट रूप से इस योजना के पैमाने को दर्शाता है। भारत की अर्थव्यवस्था का एक अच्छा हिस्सा  पशुपालन पर निर्भर है। पशुपालन की तरह मछली पालन में लगे लोगों की संख्या भी लाखों में है। विभिन्न गतिविधियों के कारण देश में विभिन्न प्रकार की मछलियों की मांग है, ऐसे में यदि इस क्षेत्र को थोड़ा और विकसित और उन्नत बनाने पर ध्यान दिया जाए तो इसमें रोजगार के अनेक अवसर सृजित होंगे।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023 के लाभ और विशेषताएं

जलीय क्षेत्र को बढ़ावा:-

  • देश में सभी क्षेत्रों के लोगों को सहायता प्रदान करने के लिए कई योजनाएं चलाई जाती हैं, लेकिन जलीय क्षेत्र ऐसा है जिसका बेहतर लाभ अब तक नहीं मिल सका है. इस योजना के माध्यम से जलीय क्षेत्र को भी अन्य क्षेत्रों की तरह समान लाभ मिलेगा। जिससे जलीय क्षेत्र को भी बढ़ावा मिल सके।

मत्स्य पालन को बढ़ावा :-

  • मछली पालन को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023  भी शुरू की गई है, क्योंकि यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण क्षेत्र है, जिससे मछली उत्पादन भी बढ़ेगा।

मछुआरों के लिए ऋण सुविधा :-

  • प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना 2023 के माध्यम से  मछुआरा समुदाय के लोगों के लिए ऋण सुविधा को आसान बनाया जाएगा, जो उन्हें जलीय क्षेत्रों में भी जलीय उत्पादों से संबंधित या अन्य व्यवसाय करने के लिए प्रोत्साहित करेगा।

वित्तीय सहायता :-

  • पिछले साल मोदी सरकार ने इसके लिए फंड आवंटित किया था, जो 7,522 करोड़ रुपए था। इस फंड को फिशरीज एंड एक्वाकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट फंड यानी FIDF कहा गया।  इस कोष से राज्य सरकार, सहकारी संस्थाओं, व्यक्तियों एवं उद्यमियों को उचित दर पर प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023 हेतु वित्तीय सहायता प्रदान की जायेगी  ।

बीमा सुरक्षा :-

  • प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023 के माध्यम  से सरकार किसानों और समाज के लिए चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं में मछली पालन और जलीय क्षेत्र में काम करने वाले मछुआरों को भी शामिल करना चाहती है। ताकि उन्हें भी दुर्घटना बीमा मिल सके।

कुल लक्ष्य :-

  • सरकार ने वर्ष 2020 तक 15 मिलियन टन मछली उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया है, जिसे  प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023 के माध्यम से पूरा किया जाएगा।

नए विभाग का गठन :-

  • प्रधानमंत्री मोदी ने इस योजना को ‘नीली क्रांति’ का नाम दिया है। और इस योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए मोदी सरकार द्वारा एक अलग विभाग भी बनाया गया है। जिसका नाम मत्स्य विभाग है। इस योजना के तहत ही यह विभाग बनाया जा रहा है।

मत्स्य सम्पदा योजनान्तर्गत हितग्राही

  • मछुआरों
  • मछली किसान
  • मछली श्रमिक और मछुआरे
  • मत्स्य विकास निगम
  • मत्स्य क्षेत्र में स्वयं सहायता समूह
  • केंद्र सरकार और इकाइयां
  • मत्स्य सहकारी
  • मछली पकड़ने का संघ
  • उद्यमी और निजी फर्म
  • मछली किसान उत्पादक संगठन
  • एससी एसटी महिला विकलांग व्यक्ति
  • राज्य सरकारें केंद्र शासित प्रदेश और उनके संस्थान
  • राज्य पशुपालन विकास बोर्ड

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023 (वित्तीय पैकेज)

  • 20 thousand crore rupees have been kept for Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana 2023 .
  • इससे 5 साल में 70 लाख टन अतिरिक्त मछली उत्पादन होगा।
  • 55 लाख से ज्यादा लोगों को रोजगार मिलेगा।
  • इसकी वैल्यू चेन को प्लग किया जाएगा।
  • समुद्री मत्स्य पालन पर 11,000 करोड़ रुपये और इसके लिए बुनियादी ढांचा तैयार करने पर 9,000 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे।
  • एक लाख करोड़ रुपए का मछली निर्यात होगा।
  • मछुआरों और नाविकों का बीमा होगा।
  • सरकार समुद्री और अंतर्देशीय मत्स्य पालन के एकीकृत, सतत, समावेशी विकास के लिए PMMSY लॉन्च करेगी।
  • योजना एक मजबूत मत्स्य प्रबंधन संरचना स्थापित करेगी।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023 {PMMSY} का क्या लाभ होगा?

प्रधान मंत्री मत्स्य सम्पदा योजना  का उद्देश्य देश में मत्स्य पालन के बुनियादी ढांचे का निर्माण और विकास करना है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, मत्स्य पालन योजना से  55 लाख से ज्यादा लोगों को रोजगार मिलेगा और  पांच साल में 70 लाख  टन अतिरिक्त मछली का उत्पादन होगा. अगर इस योजना से सामान्य मछुआरों को मिलने वाले लाभों की बात करें तो इस योजना के माध्यम से कोई भी व्यक्ति या मछुआरा इस क्षेत्र में व्यवसाय शुरू करने के लिए सरकार से 3 लाख का आसान ऋण ले सकता है। इस योजना से 23 राज्यों के मछली उत्पादन को लाभ होगा।

उपलब्धियां:

  • वर्ष 2019-20 की तुलना में वर्ष 2021-22 तक मत्स्य क्षेत्र में 14.3 प्रतिशत की प्रभावशाली वृद्धि दर्ज की गई है।
  • मत्स्य उत्पादन, जो वर्ष 2019-20 में 141.64 लाख टन था, वर्ष 2021-22 में 161.87 लाख टन (अनंतिम) के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया है।
  • निर्यात में भी, हमने 57,587 करोड़ रुपये मूल्य के 13.64 लाख टन का अब तक का सर्वोच्च निर्यात स्तर हासिल किया है, जो झींगा निर्यात के प्रभुत्व को दर्शाता है।
  • वर्तमान में चीन, थाईलैंड, जापान, ताइवान, ट्यूनीशिया, यूएसए, हांगकांग, कुवैत आदि सहित 123 देशों को निर्यात किया जा रहा है।
  • PMMSY ने 22 राज्यों और 7 केंद्र शासित प्रदेशों में बीमा कवरेज के तहत 31.47 लाख किसानों का समर्थन किया है।

मत्स्य शिक्षा के लिए सर्टिफिकेट कोर्स शुरू

मत्स्य पालन के क्षेत्र का विस्तार करने के उद्देश्य से केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा कई योजनाएं शुरू की गई हैं। इन योजनाओं के माध्यम से अब बिहार राज्य के किसान अपनी मछली को दूसरे राज्यों में निर्यात कर सकेंगे, जिससे अन्य राज्यों में मछली की बढ़ती कमी को पूरा किया जा सकेगा। अरेबियन फिशरीज कॉलेज के छात्रों को मत्स्य शिक्षा की सुविधा के लिए राज्य सरकार द्वारा किए गए योगदान के बारे में बताया जाएगा।

इस घोषणा के बाद कॉलेज प्रशासन ने भविष्य की योजना तैयार कर ली है। सरकार इस योजना के संचालन के लिए मैनपावर व अन्य संसाधनों के विकास का काम जल्द ही पूरा कर लेगी। इसके माध्यम से मत्स्य महाविद्यालयों को मत्स्य पालन के क्षेत्र में अधिक जानकारी मिल सकेगी, जो भविष्य में विद्यार्थियों के लिए उपयोगी सिद्ध होगी।

Process to apply for Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana 2023

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023
  • होम पेज पर स्कीम सेक्शन में PMMSY के विकल्प पर क्लिक करें।
  • इसके बाद आपको बुकलेट ऑफ पीएम मत्स्य संपदा योजना के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने योजना का आवेदन पत्र खुलकर आ जाएगा जिसमें मांगी गई सभी जानकारी दर्ज कर दस्तावेज अपलोड कर सबमिट पर क्लिक कर दें।
  • इस तरह प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।
  • इसके बाद आपको आवेदन पत्र में मांगी गई सभी आवश्यक जानकारियों का विवरण दर्ज करना होगा। अब आपको पूछे गए सभी आवश्यक दस्तावेजों को अपलोड करना होगा।
  • अब आपको अपना डीपीआर सहायक दस्तावेजों के साथ एनएफडीबी और मत्स्य विभाग को जमा करना होगा। आपको ध्यान देना चाहिए कि डीपीआर की दो प्रति एनएफडीबी को और एक प्रति डीओएफ को भेजी जानी चाहिए।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना हेल्पलाइन नंबर 

यदि आप प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं या आपको आवेदन में किसी प्रकार की समस्या आ रही है तो आप  हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर  1800-425-1660 पर संपर्क कर सकते हैं।

त्वरित सम्पक

आवेदन करनायहां क्लिक करें
सरकारी वेबसाइटयहां क्लिक करें

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2023 के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

What is Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana?

देश के मत्स्य विभाग में सुधार लाने के उद्देश्य से सरकार द्वारा प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना शुरू की गई है।

Who has started the Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana?

Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana has been started by Prime Minister Shri Narendra Modi.

पीएमएमएसवाई का मतलब क्या है?

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना

पीएम मत्स्य संपदा योजना 2023 के कार्यान्वयन की अवधि बताएं?

पीएम मत्स्य संपदा योजना 2023 की क्रियान्वयन अवधि 2020-21 से 2024-25 तक पांच वर्ष प्रस्तावित है।

पीएम मत्स्य संपदा योजना 2023 की देखरेख किस विभाग द्वारा की जाती है?

PM मत्स्य सम्पदा योजना 2023 की देखरेख मत्स्य विभाग, भारत सरकार द्वारा की जाती है।

What are the main objectives of Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana?

प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना का मुख्य उद्देश्य मछली और जलीय कृषि उत्पादन और देश में मछुआरों की स्थिति में सुधार करना है।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के घटकों की व्याख्या कीजिए।

प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा योजना को दो घटकों में विभाजित किया गया है: – केंद्रीय क्षेत्र और केंद्र प्रायोजित योजना।

Leave a Comment